Type Here to Get Search Results !

अत्याचार की शिकार औरत कहानी हिंदी में | Torture woman story in hindi

0
Torture woman story in hindi

 

अत्याचार की शिकार औरत

यह कहानी उस औरत की कहानी है। जो अपना घर बनाते बनाते अपनी सारी जिंदगी दांव पर लगा देती है। मायके के घर को वह हमेशा अपना समझती है लेकिन वह भी एक दिन उसे छोड़ना पड़ता है बाद में ससुराल जाती है फिर उस घर को अपना बनाती है लेकिन पति का भी कोई भरोसा नहीं कब यह कह दे कि मेरा घर छोड़कर चली जाओ।

आज मैं आपको रमन नाम की औरत की कहानी सुनाने जा रही हूं।

रमन एक पढ़ी-लिखी लड़की थी। बहुत कम उम्र में ही उसके पापा ने उसकी शादी कर दी,ससुराल में आकर उसने घर के सारे काम बड़ी आसानी से अपनी सास से सीख लिए वह सुबह जल्दी उठती पूजा पाठ करती। और फिर घर का सारा काम संभाल लेती पूरे परिवार का ध्यान रखती उसकी शादी के 2 साल बाद उसकी सास ने बिना वजह रमन से लड़ना शुरू कर दिया। 

उसकी सास हमेशा यह चाहती थी के रमन हमेशा घर के अंदर रहे। और ना ही पड़ोस में किसी औरत के साथ कोई बात करें बस सारा दिन घर का काम करती रहे। रमन को आराम करने के लिए भी बहुत कम वक्त मिलता।  रमन ठीक वैसा ही करती जैसे उसकी सास कहती, लेकिन फिर भी उसकी साथ हमेशा उसे ताने देती रहती के तुम्हारे मायके वालों ने शादी अच्छी तरह से नहीं की, और दहेज भी बहुत कम दिया। हमें कपड़े तक नहीं अच्छे दिए। यह सब चुपचाप रमन सुनती रहती। अगर कुछ बोलना भी चाहती तो उसकी सास कहती,"मेरे आगे एक भी शब्द बोलने की जरूरत नहीं। 

रमन का पति हमेशा अपनी मां की साइड लेता। वह हमेशा शराब के नशे में रहता था उसको सही गलत की परख तक नहीं थी। अपनी मां की बातें सुनकर वह रमन को मारने पीटने लग जाता। तब वह क्या करती बेचारी। अपनी मम्मी को कहती तो वह उसे चुपचाप टाइम पास करने के लिए कहती," रमन की मम्मी को यह था कि लोग कल को क्या कहेंगे। रमण का पापा बीमार सा रहता था। तथा भाई भी बहुत भोला था। दुनियादारी का उसको कुछ भी पता नहीं था। इन्हीं बातों को सोचकर रमन भी चुप हो जाती वह नहीं चाहती थी कि इन्हीं बातों को लेकर उसके मां-बाप का दिल दुखे। 

रमन के दो बच्चे थे। 

जब भी रमन अपने पति को नशा करने से रोकती, तो वह मारपीट करने लग जाता। एक दिन ऐसा आया कि रमन ने अपने ससुराल वालों से तंग आकर खुदकुशी कर ली। 

हमारे समाज में ऐसी कई हजार औरतें हैं। जो घरेलू हिंसा का शिकार हो जाती है। मैं आप सभी को यह कहना चाहती हूं कि आप एक औरत की कदर करना सीखो। हमारे देश की धरती पर कई ऋषि मुनि और अवतार पैदा हुए थे। उन सभी को एक औरत ने ही पैदा किया था जिस को आप अपने पैरों की जूती समझते हो। 
 
आप सभी को औरत की इज्जत करनी चाहिए। अब मैं आपको यह कहना चाहूंगी कि अपनी पत्नी का हर दुख सुख में साथ दो, अगर एक मर्द अपनी पत्नी का साथ दें तो दुनिया की कोई भी ताकत उसको नुकसान नहीं पहुंचा सकती इन्हीं बातों को करते-करते मुझे एक शायरी याद आ रही है। मैं आपसे शेयर करना चाहूंगी। 

एक औरत है जिसने ना चाहते हुए भी अपनी खुशियों का त्याग किया है। बरसों से अत्याचार सहती आ रही है। लेकिन फिर भी सब्र का जहर पिया है।हर जुल्म का नाश करने के लिए मां काली का भी रूप लिया है। 
 

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आपको मेरी सच्ची कहानी अच्छी लगी। तो कमेंट जरूर करिएगा।और मुझे बहुत खुशी हो रही है कि आप मेरी हर स्टोरी पढ़ते हो और मुझे अपना कीमती समय देते हो, आप हो तो मैं हूं। आप सभी के बिना मैं कभी भी आगे नहीं बढ़ सकती। 

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad