Type Here to Get Search Results !

माँ का प्यार कहानी हिंदी में | Maa ka pyar hindi story

4
Maa ka pyar hindi story

मां का प्यार एक सुंदर कहानी

एक मां ही होती है जो अपने बच्चों को दुनिया दिखाती है। बिना मां के कोई भी इंसान दुनिया को कभी भी नहीं देख सकता। बच्चे अपनी मां की आंख का तारा होते हैं चाहे एक लड़का हो चाहे लड़की एक मां 9 महीनों तक अपने बच्चे को अपने पेट में रखती है। शायद इसी वजह से एक मां और बच्चों का रिश्ता सभी रिश्तो से करीबी माना जाता है। मेरी मां भी मेरा बहुत ध्यान रखती है। वह कभी यह नहीं चाहती थी कि मैं उनकी आंखों से कभी दूर जाऊं वह चाहती थी कि मैं इंडिया में ही कोई जॉब करूं लेकिन मेरी जिद के कारण मां ने मुझे कैनेडा में पढ़ने के लिए भेज दिया, मेरी मां की वजह से ही आज मैं विदेश में हूँ। उनके साथ बीते पल मुझेे हमेशा याद आते हैं।

मेरी मां जब भी मुझे फोन करती है तो सबसे पहले यह पूछती है कि तुमने क्या खाया और क्या पिया उसे हमेशा मेरी फिक्र रहती है, उसकी जगह कोई नहीं ले सकता मां के आंचल में मुझे हमेशा अच्छा महसूस होता है। ‌पिछले हफ्ते मेरा दोस्त जब इंडिया से आया तो मां ने उसके हाथ मेरे लिए अपनी पसंद के कपड़े भेजे मुझे मां की पसंद के कपड़े पहनने बहुत अच्छा लगता हैं। जब मैं छोटा सा था तो मेरी मां मुझे लोरियां सुनाती। और मैं सुनते सुनते सो जाता। जब मैं कोई शरारत करता तो कभी भी वह मुझ पर हाथ नहीं उठाती थी। हमेशा प्यार से समझाती और अपने हाथों से खाना खिलाती। 

मेरी माँ की याद

जब भी मेरी माँ की याद मुझे आती है तो मैं अकेले बैठ कर रोने लग जाता हूं। मेरी मां ने कभी भी अपने दुख को जाहर नहीं किया। वह हमेशा हमारे दुख दूर करती आई है। उन्होंने हमारे पूरे परिवार को एक डोर में बांधकर रखा है। मेरी मां ने मुझे हमेशा अच्छी शिक्षा दी है आज मैं सफल हूं तो सिर्फ अपनी मां की वजह से, मां के प्यार ने ही मुझे अच्छा जीवन दिया, मैं चाहता हूं कि मुझे अगले जन्म में भी ऐसी ही मां मिले, मैं मरते दम तक अपनी मां की सेवा करूंगा और उसे हमेशा खुश रखूंगा।

नैतिक शिक्षा:

इस तरह से दोस्तों मैंने आमतौर पर यह देखा है के बच्चे अपनी मां को बुढ़ापे में अनाथ आश्रम में छोड़़ देते हैं। अपनी पत्नी और बच्चों के साथ अलग रहने लग जाते हैं। यह बहुत ही गलत बात है जिस मा ने भूख प्यास की परवाह ना करते हुए अपने बच्चों के लिए घर बनाया वह बच्चे उन्हेंं किस हाल पर छोड़ देते हैं। 

आप चाहे जितनी मर्जी कोशिश कर लो लेकिन फिर भी अपनी मां की ममता का मूल्य नहीं चुका सकते, एक मां ऐसी भी होती है जो लोगों के घरों में झाड़ू पोचा लगाकर एक पाई पाई बचाकर अपनेेे बच्चों को पढ़ा कर बड़ा आदमी बनाती है। अगर आप उस मां को भी छोड़ देते हो तो यह आपके लिए अच्छा नहीं है। 

निष्कर्ष

जिसने तुम्हें जिंदगी दी बुढ़ापे में उसकी जिंदगी का सहारा बनो, इस तरह से अगर मेरी यह कहानी मां का प्यार आपको पसंद आई तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करें।



Post a Comment

4 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad